Castles in the air - they are so easy to take refuge in. And so easy to build, too.

आम्हां घरी धन शब्दांचीच रत्नें | शब्दांचीच शस्त्रें यत्न करुं ||
शब्द चि आमुच्या जीवांचे जीवन | शब्दें वांटूं धन जनलोकां ||
तुका म्हणे पाहा शब्द चि हा देव | शब्द चि गौरव पूजा करुं ||
- abhang of Tukaram Wolhoba Ambile of Dehu

There's No Freedom Like That of a Child's Imagination

கடலுக்கு உண்டு கற்பனைக்கு இல்லை கட்டுப்பாடு

Monday, April 21, 2008

काव्यान्तर

ढेर सार शीर्षक चुन रखे हैं
तुम्हारे भावुक संघात के लिये:
प्रेरणा का अक्षयपात्र,
स्थितप्रज्ञा का आत्मीयता
का अस्खलित स्रोत,
गगनविहंगी उत्कृष्ट
विचारों की नींव |
आज अचानक एक शब्द स्फूरा,
पर्वत की छाती चीरकर
जैसे दामिनी डमकी
पूर्ण प्राधिकता से:
क्षतिपूर्ति!

मुश्ताक़

मैंने तो केवल खींची थीं कागज़ पर,
काली सियाही की चन्द रेखाएँ;
तुम्ही ने बनायीं उन रेखाओं को,
कथा‍पात्रों की जीवनरेखाएँ |
- मेरा उत्तर

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home