Castles in the air - they are so easy to take refuge in. And so easy to build, too.

आम्हां घरी धन शब्दांचीच रत्नें | शब्दांचीच शस्त्रें यत्न करुं ||
शब्द चि आमुच्या जीवांचे जीवन | शब्दें वांटूं धन जनलोकां ||
तुका म्हणे पाहा शब्द चि हा देव | शब्द चि गौरव पूजा करुं ||
- abhang of Tukaram Wolhoba Ambile of Dehu

There's No Freedom Like That of a Child's Imagination

கடலுக்கு உண்டு கற்பனைக்கு இல்லை கட்டுப்பாடு

Saturday, August 15, 2009

यह रिश्ता - एक गुफ़्तगू

जाने अनजाने बन जाता है यह रिश्ता
गाने अफ़्साने बुन लेता है यह रिश्ता
अनजाने में सूखने दे वह महज़ इनसान,
जाने समझे बस जमे रहे वह फ़रिश्ता|
-मुश्ताक़

जाने अनजाने बस बन गया है यह रिश्ता,
गानों अफ़सानों से बुन लिया है यह रिश्ता,
पर आज डोर टूटा - आज मैं ख़ाना बदोश पतंग
मैं तो गुम जाऊँगा, तुम्हें बख़्शे फ़रिश्ता!
- मैं

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home