Castles in the air - they are so easy to take refuge in. And so easy to build, too.

आम्हां घरी धन शब्दांचीच रत्नें | शब्दांचीच शस्त्रें यत्न करुं ||
शब्द चि आमुच्या जीवांचे जीवन | शब्दें वांटूं धन जनलोकां ||
तुका म्हणे पाहा शब्द चि हा देव | शब्द चि गौरव पूजा करुं ||
- abhang of Tukaram Wolhoba Ambile of Dehu

There's No Freedom Like That of a Child's Imagination

கடலுக்கு உண்டு கற்பனைக்கு இல்லை கட்டுப்பாடு

Friday, December 04, 2009

नफ़रत

मरकज़ ए हरम से तो नफ़रत ही की जा स्सकती है,
वहाँ पे अरमानों की कफ़न जो सिली जाती है

- मैं


ज़माने से नफ़रत ना करें तो क्या करें,
प्यार भरे दिल तोड़कर जो इतराता है|

-मुश्ताक़

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home